Tuesday, March 10, 2009

आगे बैजू पीछे नाथ

आगे बैजू पीछे नाथ

(बैजू = बदमाश और मूर्ख व्यक्ति, नाथ = विद्वान या समझदार व्यक्ति)

इस कहावत का अर्थ यह है कि अगर दो व्यक्ति खड़े हों और उनमें से एक बदमाश और मूर्ख तथा दूसरा विद्वान हो तो पहले मूर्ख को नमस्कार करना बेहतर होता है क्योंकि विद्वान व्यक्ति स्थिति को समझते हुए इसका बुरा नहीं मानेगा परन्तु ऐसा न करने पर मूर्ख व्यक्ति इसे अपना अपमान मानकर नाराज हो सकता है।

2 विचार आए:

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

बहुत सुंदर। लोकाचार का उत्‍कृष्‍ट उदाहरण। आभार

Abhishek said...

Bilkul satik kahavat.

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates