Wednesday, March 4, 2009

एक कहावत बिहार की

अधकल गगरी छलकत जाए
जिस व्यक्ति में आधा - आधुरा ज्ञान हो गा वो बहुत ज्ञान बघारने की कोशिश करता है। जैसे आधी भरी हुई गगरी से पानी छलक कर गिरता है। किंतु भरी हुई गगरी से पानी छलकता नही है। अंग्रेजी में एक कहावत है - कम ज्ञान बहुत खतरनाक बात है...

5 विचार आए:

आलोक सिंह said...

जोहार
सही है कम ज्ञान वाला ज्यादा ज्ञानी बनता है और जो ज्ञानी होता है वो कभी नहीं दिखता की वो बहुत ज्ञानी है .

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...

सच है। आधा अधुरा ज्ञान बहुत खतरनाक होता है। इसी कहावत का प्रयाय है -
"नीम हकीम, खतराए जान"

Udan Tashtari said...

हमने सुना था:

अधजल गगरी....आपने बताया अधकल..क्या पता कौन सा सही है.

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

कल कलकल से एक कल निकाल दिया होगा तो कल की ध्‍वनि कम होते ही पानी रह गया। अब पानी भी आधा हो सो माधवीजी ने कर दिया अधकल। इस तरह अधकल गगरी छलकत जाए हो गया।

देखा मेरी गगरी भी छलकने लगी। :)

imnindian said...

adhkal sahi hai ya adhjal mujeh pata nahi , jo bachpan se yaad tha wahi likh diya.....

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates