Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2010
हर्र लगे ना फटकारी रंग चोखा होय !
तात्पर्य -- यह कहावत मितव्ययता प्रदर्शित करती है , काम संशाधनो का प्रयोग करके उत्तम फल प्राप्त करना !