Wednesday, December 23, 2009

मूंछ उखाड़े मुर्दा हल्को न होवे

3विचार आए
मूंछ उखाड़े मुर्दा हल्को होवे

===============

इस कहावत का अर्थ इस रूप में लगाया जा सकता है कि छोटे-छोटे काम निपटाने से किसी बड़े काम में सफलता नहीं मिलती। बड़े काम को करने में इस तरह के छोटे-छोटे प्रयासों से मदद भी नहीं मिलती। इस तरह के छोटे काम निरर्थक ही कहे जा सकते हैं।

Thursday, December 17, 2009

घर में नईंयाँ दाने, अम्मा चली भुनाने

4विचार आए

घर में नईंयाँ दाने,
अम्मा चली भुनाने।

---------------------
नईंयाँ - नहीं हैं
---------------------
यह कहावत ऐसे लोगों पर सटीक सिद्ध बैठती है जो स्वयं में कुछ न होने के बाद भी अपने आप में बहुत कुछ होने का दम भरते हैं। इसे दूसरे रूप में ऐसे भी देखा जा सकता है कि व्यक्ति कैसे झूठी शान दिखाता घूमता है।

Monday, December 7, 2009

5विचार आए
छाया बखत की चाहे कैर ही हो,
चलना रास्ते का चाहे फेर ही हो,
बैठना भाइयों में चाहे बैर ही हो
 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates