Thursday, March 5, 2009

रत्ती रती साधे

रत्ती रत्ती साधै तौ द्वारै हाती होयै।
रत्ती रत्ती खोबै तो द्वारै बैठके रोये।।

भावार्थ -

इसका अर्थ है कि यदि थोड़ा-थोड़ा करके जोड़ा जाये तो धन-सम्पदा प्राप्त होती है। इसे ही सांकेतिक रूप में हाथी बांधने से समझाया गया है। इसी तरह यदि थोड़ा-थोड़ा ही गंवाया जाता रहे तो रोने की नौबत आ जाती है। अर्थात हमेशा सोच-समझ कर ही खर्च करना चाहिए।

0 विचार आए:

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates