Friday, February 13, 2009

अगहन, पूस, माघ, फागुन.....

अगहन माह खाओ तेल, पूस में करो दूध से मेल।
माघ मास घी-खिचड़ी खाए, फागुन उठके सुबह नहाय।


बिहारी जनमानस में कहावतों के माध्यम से भी अलग-अलग मौसम के लिए खान-पान के सबंध में सुझाव दिए गए हैं।
ऐसी ही एक कहावत के अनुसार अगहन माह में तेल युक्त भोजन, पूस में दूध के पदार्थ, माघ में घी-खिचड़ी और फागुन में प्रातः काल स्नान स्वास्थ्य के लिए उत्तम है।

7 विचार आए:

आलोक सिंह said...

बहुत अच्छी जानकारी है इस कहावत के द्वारा .
धन्वाद

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सही कहावत है यह

Nirmla Kapila said...

badon ki kahavaten bahut sahi hoti hain magar aaj kal ke bachon ko shayad ye bhi naa pata ho ki desi maheene bhi hote hain bahut badiya paryas hai badhai

सिद्धार्थ जोशी said...

बहुत सुंदर कहावत अभिषेक जी आभार

एक बात मेरी ओर से। अगर आप इन महीनों का अंग्रेजी संस्‍करण अनुवाद दे देते तो नए बच्‍चे भी समझ जाते। जैसा कि निर्मलाजी ने बताया। एक ओर कहावत याद करने में आसानी होती वहीं नए बच्‍चे भी जुड़ते। :)

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

कहावतों के बहाने आपने अच्छी जानकारी दे दी.

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर
धन्यवाद

Abhishek said...

प्रस्तुत मुहावरे को पसंद करने और हौसला बढ़ाने का शुक्रिया.

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates