Tuesday, February 3, 2009

एक bihari कहावत

सास से बैरी पुतोहिया से नाता , येही कुल रहिये जईबे बिधाता ।
यानि सास से तो बैर है यानि दुश्मनी पर उसकी बहु से प्रेम .इसका मतलब शायद यह भी होता हो कि किसी घर के बड़े से तो दुश्मनी करो पर उसी घर से छोटे सदस्य से दोस्ती करो ताकि उस घर का टोह लिया जासके

5 विचार आए:

Nirmla Kapila said...

kahavat achhi hai aaj kal shaayad aaj kal ke serial yahi kuchh dikha rahe haim

रंजना [रंजू भाटिया] said...

नई नई कहावते पता चल रही है इस के माध्यम के शुक्रिया

विनय said...

आप सादर आमंत्रित हैं, आनन्द बक्षी की गीत जीवनी का दूसरा भाग पढ़ें और अपनी राय दें!
दूसरा भाग | पहला भाग

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

ati sundar

राज भाटिय़ा said...

अरे वाह , सही बनाई जिस ने भी यह कहावत बनाई है.
धन्यवाद

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates