Friday, May 16, 2008

बिगडे भ्‍यों रो नाई

बिगडियोडे भ्‍यौं में नाई फिरे ज्‍यां फिरे

बिगडियोडे: बिगडे हुए
भ्‍यौं: विवाह
नाई: शादी में काम करने वाला वह व्‍यक्ति को दो परिवारों के बीच सांमजस्‍य का काम करता है
फिरे: घूम रहा है

नाई दो परिवारों में सामंजस्‍य बिठाकर शादी की स्थिति पैदा करता है। परिवार से बाहर का आदमी होने के बावजूद उसकी पंचायती सबसे ज्‍यादा होती है। लेकिन जब शादी बिगड जाती है तो नाई को कोई नहीं पूछता। वह किंकर्तव्‍यमूढ सा घूमता रहता है। न कोई उसके पास आता है न वह किसी को पास जा पाता है।
जो व्‍यक्ति बिना कारण अनुपयुक्‍त स्‍थान पर विमजिकल सा खडा होता है उसे बिगडे हुए विवाह के नाई की संज्ञा देते हैं।

0 विचार आए:

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates