Friday, May 16, 2008

आप मरियो जुग परलय

आप मरियो जुग परलय

आप: खुद
मरियो: मरने पर
जुग: सृष्टि
परलय: प्रलय

मेरी मौत आ जाए तो भले ही प्रलय हो जाए। जो लोग यह मानते हैं कि मेरे जिन्‍दा रहने तक ही सृष्टि है उन लोगों का यह भी मामना होता है कि उनके मरने के बाद तो प्रलय हो जाएगी। भले ही प्रलय न हो लेकिन उनके लिए फिर दुनिया का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। आमतौर पर इस कहावत का इस्‍तेमाल वर्तमान की उन समस्‍याओं के लिए किया जाता है जिनका सॉल्‍यूशन दिखाई नहीं दे रहा होता है। वे कहते हैं कि हम तो मर जाएंगे बाद में भले ही इन समस्‍याओं के साथ प्रलय आ जाए।

1 विचार आए:

Lovely kumari said...

आपका ब्लॉग अच्छी कोसिस है.आप इसे कामुनिटी ब्लॉग क्यों नही बना देते हैं.सारे अंचलों की कहावतों का मेल एक जगह अच्छा रहेगा.वैसे यह सिर्फ़ एक सुझाव है अन्यथा न लें.
कृपया वर्ड वेरीफिकैसन हटा दें हिन्दी ब्लोगिंग मे स्पेम की कोई समस्या अभी नही है.

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates