Saturday, May 9, 2009

पगली क्‍या करती है ?

गांव करै ज्‍यां गैली करै 

करै- करता है या करती है 
गैली - पगली 
ज्‍यां- की तरह 

यानि जैसा गांव करता है वैसा ही गैली करती है। 
यानि जैसा समूह करता है वैसा ही समूह का एक हिस्‍सा करता है। कई बार बाहरी आदमी किसी जगह आता है तो वह देखता है कि बाकी लोग कैसा व्‍यवहार करते हैं। और उसी के अनुसार अपना व्‍यवहार तय करता है। तब कहा जाता है गांव करै ज्‍यां गैली करे। 

2 विचार आए:

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

शायद ये राजस्थान की कहावत है ?

महामंत्री - तस्लीम said...

सार्थक विचार।

-जाकिर अली रजनीश
----------
SBAI / TSALIIM

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates