Friday, May 8, 2009

'शहर सिखावे, कोतवाल सीखे'

'शहर सिखावे, कोतवाल सीखे'
बिहार में प्रचलित इस कहावत में कोतवाल का अर्थ न सिर्फ़ पुलिस बल्कि किसी भी जिम्मेवार अधिकारी के रूप में लिया जा सकता है।
कहावत का अर्थ है- "जिम्मेवारियां ख़ुद ही उन्हें निभाने के तरीके भी सिखा देती हैं, जिस प्रकार शहर ख़ुद ही कोतवाल को सिखा देता है कि उसे व्यवस्थित कैसे रखा जाए।"

2 विचार आए:

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

बहुत खूब। इसी तरह की एक कहावत और बताउंगा। कल सुबह तक।

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

gazab
ise hee to prajatantr kahaten hain
hai n

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates