Monday, August 31, 2009

एक कहावत बिहार की

खिसियानी बिल्लैअ , खंभा नोचे .
ये कहावत तब बोली जाती है जब कोई व्यक्ति कुछ करना चाहता है पर वो काम नहीं कर पता तो हताशा में उस काम या उससे जुड़े व्यक्ति के बारे में गलत - सही बोलना शुरु कर देता है. क्यों कि उस काम या व्यक्ति का कुछ नहीं बिगड़ता है" बिल्ली " सिर्फ खब नोच कर ही रह जाती है.

2 विचार आए:

राज भाटिय़ा said...

अजी यह कहावत तो पुरे भारत मै प्रसिद्ध है. धन्यवाद

imnindian said...

SARE BHARAT ME BIHAR BHI AATA HAI BHATIA JI.

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates