Skip to main content

पंजाब की एक कहावत

जिदी कोठी ते दाने , ओहदे कमले भी सयाने

यानि जिनके घर में दाने यानि कि अनाज या कहे समृद्धि भरी होती है उनके आवारा लड़को को भी दुनिया सयाना यानि कि समझदार कहती है।

ओहदे - उनके , कमले - आवारा लड़के

Comments

विनम्रता के साथ आपका ध्यान एक गलत शब्द की तरफ दिलाना चाहूंगा। पंजाबी की इस कहावत में कमदे नहीं कमले का प्रयोग हुआ है।
कमले यानि पगले।

अर्थ यूं है कि जो सामर्थ्यवान होते हैं उनके नालायक भी लायक समझे जाते हैं।
अपने बुजुर्ग लोग समझदार लोग थे ......
जैसा कि समरथ को नांही दोष गुसांई।
गगन जी ने बिल्कुल सही ध्यान दिलाया....वास्तविक शब्द कमले ही है।
कृ्प्या त्रुटि सुधार लें......
Abhishek Mishra said…
Bilkul vyavharik kahavat hai.
imnindian said…
Dono Sharma ji ko dhanyawad mera dhyan meri truti ki taraf dilane ke liye. Asal me mai kamade likh rahi thi to wo "ada" ki jagah "d" ho ja raha tha ,mujeh kamde samaj me aaya tha kamle nahi , isliye galti ho gayee.

fir se dhanyawad meri galti ki taraf dhayan dilane ke liye.

Madhavi Shree.

Popular posts from this blog

चैत चना, वैशाख बेल - एक भोजपुरी कहावत

चइते चना, बइसाखे बेल, जेठे सयन असाढ़े खेल  सावन हर्रे, भादो तीत, कुवार मास गुड़ खाओ नीत  कातिक मुरई, अगहन तेल, पूस कर दूध से मेल  माघ मास घिव खिंच्चड़ खा, फागुन में उठि प्रात नहा ये बारे के सेवन करे, रोग दोस सब तन से डरे।
यह संभवतया भोजपुरी कहावत है। इसका अर्थ अभी पूरा मालूम नहीं है। फिर भी आंचलिक स्‍वर होने के कारण गिरिजेश भोजपुरिया की फेसबुक वॉल से उठाकर यहां लाया हूं।

नंगा और नहाना

एक कहावत : नंगा नहायेगा क्या और निचोडेगा क्या ?
यानि जो व्यक्ति नंगा हो वो अगर नहाने बैठेगा तो क्या कपड़ा उतारेगा और क्या कपड़ा धोएगा और क्या कपड़ा निचोडेगा। मतलब " मरे हुए आदमी को मार कर कुछ नही मिलता" ।
होली की शुभ कामनाये सभी को।
माधवी

एक कहावत

न नौ मन तेल होगा , न राधा नाचेगी ।
ये कहावत की बात पुरी तरह से याद नही आ रही है, पर हल्का- हल्का धुंधला सा याद है कि ऐसी कोई शर्त राधा के नाचने के लिए रख्खी गई थी जिसे राधा पुरी नही कर सकती थी नौ मन तेल जोगड़ने के संदर्भ में । राधा की माली हालत शायद ठीक नही थी, ऐसा कुछ था। मूल बात यह थी कि राधा के सामने ऐसी शर्त रख्खइ गई थी जो उसके सामर्थ्य से बाहर की बात थी जिसे वो पूरा नही करपाती। न वो शर्त पूरा कर पाती ,न वो नाच पाती।
अजगर करे ना चाकरी पंछी करे ना काम ,
दास मलूका कह गए सब के दाता राम ..
तात्पर्य -  अजगर किसी की नौकरी नहीं करता और पक्षी भी कोई काम नहीं करते भगवान सबका पालन हार है इसलिए कोई काम मात करो भगवान स्वयं ही देगा आलसी लोगों के लिए मलूक दास जी की ये पंक्तियाँ रामबाण है !

खंगार की जाति

"भोंर मछों और खंगार की जात सोतन  बधियो आधी रात " भावार्थ ;- शहद की बड़ी मधुमक्खी और खंगार जाति के  व्यक्ति बड़े ही खतरनाक होते हैं इसलिए उनका बध आधी रात के समय जब वे सोये हुए हो तब करना चाहिए ! इस कहावत में खंगार वीरों से शत्रुओं में ब्याप्त भय का बोध होता है ........