Saturday, March 27, 2010

तीन बुलाये तेरह आये......

तीन बुलाये, तेरह आये,
दे दाल में पानी
--------------------------------
इसका सीधा सा अर्थ ये है कि कम की व्यवस्था होने पर अधिक खर्च करना पढ़ जाए तो उसी में कुछ जोड़-तोड़ कर लेना चाहिए। हो सकता है कि किसी समय में इसका अर्थ मितव्ययता से लगाया जाता हो?

4 विचार आए:

कृष्ण मुरारी प्रसाद said...

कहावत अच्छे लगी...
.
.
.
http://laddoospeaks.blogspot.com/

राज भाटिय़ा said...

अजी जब कम लोगो( बरतियो ) को न्योता दिया जाये, ओर ज्यादा आ जाये तो उस समय यह कहावत कहते है, ्बहुत सुंदर

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

मेरे समेत जिन तीन को बुलाया तो वह तो आ गए बाकी तेरह कमेंट करने वाले भी आते ही होंगे :)

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

हम कबसे पानी लिए बैठे हैं...............
हा,हा,हा,

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates