Friday, July 25, 2008

इनसें गंगा हारी

छिनरा, चोर, जुआरी,

इनसें गंगा हारी.

==============================================

छिनरा = व्यभिचारी पुरूष

कहा गया है कि व्याभिचारी पुरूष से, चोर से और जुआ खेलने वाले का सुधार बहुत मुश्किल है, इनको सुधार न पाने के कारण ही कहा गया कि गंगा जैसी पावन नदी भी इन्हें पवित्र नहीं कर सकती.

0 विचार आए:

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates