Friday, July 18, 2008

आब-आब कह पुतुआ मर गए

फारस गए, फारसी पढ़ आए,
बोले पी की बानी।
आब-आब कह पुतुआ मर गए,
खटिया तरे धरो रहो पानी।

=======================================
बानी=बोली
आब=पानी
पुतुआ=किसी लड़के का संबोधन
तरे=नीचे
धरो=रखा
========================================
इसका अर्थ ये है कि किसी व्यक्ति को फारसी का ज्ञान हो गया. अपने गाँव में इस भाषा से अनजान लोगों के बीच वह बीमारी में आब-आब चिल्लाता रहा. कोई जान न पाया की वह पानी मांग रहा है और उसने दम तोड़ दिया, जबकि पानी उसकी चारपाई के पास ही रखा था.
=====================================================
मतलब बिना आवश्यकता के रोब दिखने के लिए अपनी योग्यता का बखान नहीं करना चाहिए।

2 विचार आए:

Udan Tashtari said...

बिल्कुल सही-प्रेरक प्रसंग.

सिद्धार्थ जोशी said...

bahut bahut badhai
aapne is blog ko gulzar kar diya

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates