Skip to main content

रोई रो फूल

रूप रूड़ो गुण बाइड़ो
रूईड़े रो फूल


रूड़ो : सुन्दर
बाइड़ो: कड़वा या असुंदर
रूइड़ो : जंगल

जंगल में खिलने वाला फूल सुंदर तो होता है लेकिन उसमें खुशबू या अन्य कोई गुण नहीं होता।

इसके लिए उदाहरण ले सकते हैं कि बिना पढ़ा लिखा सुंदर आदमी, बिना एटीट्यूड की खूबसूरत महिला, यानि सहयोगी गुण के बिना किसी एक गुण का विकसित होना। ऐसे नितांत गुण का कोई उपयोग नहीं होता।

(यह कहावत मेरी नानी ने मुझे बताई है।)

Comments

bahut suder kaha aapne
Udan Tashtari said…
पहली बार सुनी यह कहावत!! आभार.
Kuldeep said…
"जिस देश में हर तीन किलोमीटर पर बोली बदल जाती है और हर छह किलोमीटर पर पानी का स्‍वाद "

shayad yah kahavat isprakar hai

"kosh kos pe dale paanI, teen kos pe wani."

agar meri jankari galat ho to krapaya sudhare
Kuldeep said…
"जिस देश में हर तीन किलोमीटर पर बोली बदल जाती है और हर छह किलोमीटर पर पानी का स्‍वाद "

shayad yah kahavat isprakar hai

"kos kos pe badale paanI, aur teen kos pe wani."

agar meri jankari galat ho to krapaya sudhare
कुलदीप जी आपकी जानकारी बिल्‍कुल सही है। यहां इंट्रो में मैंने एक संकेत भर डाला है। चूंकि यह कहावत पूरी मुझे आती नहीं है इसलिए मैंने इससे छेडछाड नहीं की। आपको जानकारी हो तो हमें भी बताइएगा। इस ओर ध्यान दिलाने के लिए आभार।

आप अनुमति दें तो आपको सदस्यता का निमंत्रण भेज देता हूं।
DHAROHAR said…
Ye kahavatein bhi hamari saajhi dharohar hain. Ise apne blog se jodne se khud ko rok nahi paya.
Kuldeep said…
meri jankari me ye kahawat itani hai. ek baar meri ma ne batyi thi. "kos kos pe badale paanI, aur teen kos pe wani."

aap mujhe sadasyata ka nimtran bhej sakate hai.
वर्षा said…
अरे वाह,वनफूल का ये मुहावरा मजेदार है।

Popular posts from this blog

चैत चना, वैशाख बेल - एक भोजपुरी कहावत

चइते चना, बइसाखे बेल, जेठे सयन असाढ़े खेल  सावन हर्रे, भादो तीत, कुवार मास गुड़ खाओ नीत  कातिक मुरई, अगहन तेल, पूस कर दूध से मेल  माघ मास घिव खिंच्चड़ खा, फागुन में उठि प्रात नहा ये बारे के सेवन करे, रोग दोस सब तन से डरे।
यह संभवतया भोजपुरी कहावत है। इसका अर्थ अभी पूरा मालूम नहीं है। फिर भी आंचलिक स्‍वर होने के कारण गिरिजेश भोजपुरिया की फेसबुक वॉल से उठाकर यहां लाया हूं।

नंगा और नहाना

एक कहावत : नंगा नहायेगा क्या और निचोडेगा क्या ?
यानि जो व्यक्ति नंगा हो वो अगर नहाने बैठेगा तो क्या कपड़ा उतारेगा और क्या कपड़ा धोएगा और क्या कपड़ा निचोडेगा। मतलब " मरे हुए आदमी को मार कर कुछ नही मिलता" ।
होली की शुभ कामनाये सभी को।
माधवी

एक कहावत

न नौ मन तेल होगा , न राधा नाचेगी ।
ये कहावत की बात पुरी तरह से याद नही आ रही है, पर हल्का- हल्का धुंधला सा याद है कि ऐसी कोई शर्त राधा के नाचने के लिए रख्खी गई थी जिसे राधा पुरी नही कर सकती थी नौ मन तेल जोगड़ने के संदर्भ में । राधा की माली हालत शायद ठीक नही थी, ऐसा कुछ था। मूल बात यह थी कि राधा के सामने ऐसी शर्त रख्खइ गई थी जो उसके सामर्थ्य से बाहर की बात थी जिसे वो पूरा नही करपाती। न वो शर्त पूरा कर पाती ,न वो नाच पाती।
अजगर करे ना चाकरी पंछी करे ना काम ,
दास मलूका कह गए सब के दाता राम ..
तात्पर्य -  अजगर किसी की नौकरी नहीं करता और पक्षी भी कोई काम नहीं करते भगवान सबका पालन हार है इसलिए कोई काम मात करो भगवान स्वयं ही देगा आलसी लोगों के लिए मलूक दास जी की ये पंक्तियाँ रामबाण है !

खंगार की जाति

"भोंर मछों और खंगार की जात सोतन  बधियो आधी रात " भावार्थ ;- शहद की बड़ी मधुमक्खी और खंगार जाति के  व्यक्ति बड़े ही खतरनाक होते हैं इसलिए उनका बध आधी रात के समय जब वे सोये हुए हो तब करना चाहिए ! इस कहावत में खंगार वीरों से शत्रुओं में ब्याप्त भय का बोध होता है ........