Wednesday, January 18, 2012

खंगार की जाति

"भोंर मछों और खंगार की जात सोतन  बधियो आधी रात "
भावार्थ ;- शहद की बड़ी मधुमक्खी और खंगार जाति के  व्यक्ति बड़े ही खतरनाक होते हैं इसलिए उनका बध आधी रात के समय जब वे सोये हुए हो तब करना चाहिए ! इस कहावत में खंगार वीरों से शत्रुओं में ब्याप्त भय का बोध होता है ........

5 विचार आए:

मनोज कुमार said...

नई जानकारी।

mayank singh said...

Very nice

ashok suryavedi said...

आप सभी को धन्यवाद...!

dpu parihar said...

It's true .....

dpu parihar said...

It's true .....

 

मेरे अंचल की कहावतें © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates